Rang bhar de in kore kagzo par…(Bewfaii 3)

Kab se ye kitaab khuli hai uske intzaar  main,

ki kab vo aaye or rang de iske kore kaagzo ko.

Yeh Kitaab usse puch rahi haiki

kab tak mere panne kore rahenge,tere rango se dur

kya kora rehna hi inki kismat hai?

Kya yehi hai inka naseeb?

sunai nahi padti tujhe meri  sehmi si dhadkan?

Kya nahi dikhai padta tujhe mera sunapan?

Nafrat ki is aandhi main mere sab panne fat jayenge ,

Kore the mere kaagaz kya kore hi reh jayenge?

Kyun bani hai yeh rango se duri,

aisi bhi hai kya majburi?

Aa Rang de mujhe,rang de mujhe

rang tere pyaar ka,rang tere sahaare ka…..

rang tere hone ke ehsaas ka

rang meri saanso se zudi teri saans ka

Rang de mujhe apne rango se,

Rang de mujhe apne rango se

Kab se ye kitaab khuli hai uske intzaar  main,

ki kab vo aaye or rang de iske kore kaagzo ko.

i think following will be much easier o read
कब से ये किताब खुली है उसके इंतज़ार में,
की कब वो आए और रंग दे इसके कोरे कागजों को

यह किताब उससे पूछ रही है की,
कब तक मेरे पन्ने कोरे रहेंगे,तेरे रंगो से दूर।
क्या कोरा रहना ही इनकी कीस्मत है?
क्या येही है इनका नसीब?
सुनाई नही पड़ती तुझे मेरी सहमी सी धड़कन ?
नही दिखाई पड़ता क्या तुझे मेरा सूनापन?

नफरत की इस आंधी में,मेरे सब पन्ने फट जायेंगे,
ह्म्म,,,, कोरे थे मेरे कागज़ क्या कोरे ही रह जायेंगे ?
क्यों बनी है यह रंगो से दूरी?
ऐसी भी है क्या मजबूरी ?

आ रंग दे मुझे,आ रंग दे मुझे……..
रंग तेरे प्यार का,रंग तेरे सहारे का…
रंग तेरे होने के एहसास का,
रंग मेरी saanso से जुड़ी तेरी saans ka….

रंग दे मुझे अपने रंगो से,
रंग दे मुझे अपने रंगो से

कब से ये किताब खुली है उसके इंतज़ार में,
की कब वो आए और रंग दे इसके कोरे कागजों को

One thought on “Rang bhar de in kore kagzo par…(Bewfaii 3)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *